0Shares

Agneepath Scheme Protest : बिहार में अग्निपथ योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन और इससे हो रहे उपद्रव के मद्देनजर राज्य सरकार ने यहां में 15 जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है। राज्य सरकार की तरफ से यह कदम असामाजिक तत्वों द्वारा फैलाई जा रही अफवाहों पर अंकुश लगाने के लिए उठाया गया है। पहले राज्य सरकार ने 12 जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगाने का निर्देश दिया था और बाद में तीन जिलों में इंटरनेट बंद करने के निर्देश दिए गए हैं।

इस संबंध में एडीजी विधि-व्यवस्था संजय कुमार सिंह ने बताया कि राज्य के 15 जिलों में अगले 48 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। पहले कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, बक्सर, नवादा, पश्चिम चंपारण, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली और सारण में रोक लगाई गई थी। कुछ घंटों बाद में इसमें मुजफ्फरपुर, मोतिहारी और दरभंगा जिले को भी शामिल कर दिया गया। अग्निपथ योजना को लेकर तोड़फोड़, आगजनी और रोड़ेबाजी की अधिकांश घटनाएं भी इन्हीं जिलों में हुई है।

Agneepath Scheme Protest

Also Read : अग्निपथ योजना के खिलाफ विद्यार्थियों के प्रदर्शन के कारण बिहार में कई ट्रेनों का परिचालन रद्द

Agneepath Scheme Protest : अफवाहें फैलाने और हिंसा की साजिश

असामाजिक तत्वों द्वारा इन जिलों में इंटरनेट के विभिन्न माध्यमों का इस्तेमाल कर अफवाहें फैलाने और हिंसा की साजिश रचने की बात सामने आने के बाद यह कदम उठाया गया। बिहार पुलिस की रिपोर्ट का हवाला देते हुए गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने शुक्रवार को इंटरनेट सेवा पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का आदेश जारी किया। इसके तहत फेसबुक, वाट्सएप, ट्वीटर, क्यूक्यू, वीचैट, गूगल समेत अन्य तरह की इंटरनेट सेवाएं 19 जून तक बंद रहेंगी।

पुलिस मुख्यालय के मुताबिक हिंसा, तोड़फोड़, आगजनी और पथराव की घटनाओं को लेकर राज्यभर में अबतक 70 एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं 325 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। शुक्रवार को हुई हिंसा में उपद्रवियों ने कई ट्रेनों में आग लगी दी और स्टेशनों पर तोड़फोड़ के अलावा पथराव किए गए। कई जगहों पर सड़कें जाम कर प्रदर्शन की घटनाएं सामने आई हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.