0Shares

Bihar News : बिहार की बसों में सफर करनी महिलाओं को अब सरकार की ओर से बड़ी और अच्छी खुशखबरी मिलने जा रही हैं। इन बसों में यात्रा करना अब पहले की मुकाबले अब काफी सुरक्षित और अच्छा होगा, ऐसे में इसके लिए सरकार ने नई व्यवस्था शुरू करवाई हैं। इस व्यवस्था के तहत कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से पल-पल बस के लोकेशन की जानकारी और ओवरस्पीड के बारे में पता लगाया जाएगा।

Bihar News : परिवहन मंत्री ने किया उद्घाटन

ऐस में मंगलवार को परिवहन मंत्री शीला कुमारी ने इसका उद्घाटन किया। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर पटना से लाइव ट्रैकिंग की शुरुआत की गई है। फिलहाल बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के बसों की रियल टाइम मानीटरिंग की जा रही है। इसके बाद अन्य शहरों में संचालित सार्वजनिक परिवहन के वाहनों में यह सुविधा शुरू की जाएगी। परिवहन मंत्री ने बताया कि सार्वजनिक परिवहन के वाहनों में महिलाओं एवं यात्रियों की सुरक्षा के उद्देश्य से व्हीकल लोकशन ट्रैकिंग डिवाइस और इमरजेंसी बटन लगाया जाना अनिवार्य किया गया है।

ऐसे में सार्वजनि वाहनों की कमांड अब कंट्रोल सेंटर के जरिये लाइव मानीटरिंग की जा सकेगी। परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि निर्भया फ्रेमवर्क के तहत सार्वजनिक परिवहन की गाडिय़ों में वीएलटीडी और इमरजेंसी बटन लगाने का निर्णय लिया गया है। एक जनवरी 2019 के बाद पंजीकृत सभी सार्वजनिक परिवहन के वाहनों में यह उपकरण लगे आ रहे हैं।

2019 के पहले पंजीकृत सभी सार्वजनिक परिवहन के वाहनों में इसे लगाया जाना अनिवार्य किया गया है। एक अगस्त 2022 तक प्राइवेट बसों में भी वीएलटीडी एवं इमरजेंसी बटन लगाया जाना अनिवार्य हो जाएगा। स्कूली छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के लिए स्कूल बसों में भी पैनिक बटन लगाने का निर्देश दिया जाएगा। इस नई व्यवस्था के तहत सार्वजनिक परिवहन की गाडिय़ों (बस, कैब, टैक्सी) से सफर करने वाली महिलाएं या लड़कियां किसी तरह के खतरे का आभास होने पर इमरजेंसी बटन दबा सकेगी। इससे कंट्रोल कमांड सेंटर में अलार्म बजेगा और तत्काल पुलिस मदद के लिए पहुंचेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.