0Shares

Bihar News : बिहार में भूमि अधिग्रहण की समस्या के चलते धीमी गति से चल रही कई रेल परियोजनाओं का काम अब तेजी से किया जाएगा। राज्य के अलग-अलग इलाकों में कई रेल परियोजनाओं पर काम चल रहा है, लेकिन भूमि अधिग्रहण की समस्या इसके आड़े आ रही है। कई जगहों पर भूमि अधिग्रहण पर विवाद चल रहा है।

Bihar News

Bihar News : भू अर्जन अधिकारियों को निर्देश दिए गए

शनिवार को आयोजित राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग की बैठक में भू अर्जन अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि जमीन से जुड़े सभी हितकारकों से बात करके समस्या का निदान करें। बैठक में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अधिकारियों के अलावा रेलवे, एनएच, एनएचएआइ और सशस्त्र सीमा बल के अधिकारी भी मौजूद थे।

राज्य में जमीन के कारण कई परियोजनाएं रुकी हुई हैं तो कुछ देर से कार्यान्वित हो रही हैं। नेऊरा-दनियावां-बिहारशरीफ-शेखपुरा रेल लाइन परियोजना में भी यही समस्या बाधा बनी हुई है। पुनपुन थाना चामुचक मंझौली में कुल 15 एकड़ जमीन के अधिग्रहण का विवाद सुलझ गया है। 20 करोड़़ में से सात करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया गया है। पटना के जिलाधिकारी को जमीन पर रेलवे को दखल दिलाने का जिम्मा दिया गया है।

फुलवारीशरीफ अंचल के कोर्जी मोहम्मदपुर, कोर्जी एवं आलमपुर गोनपुरा में भी इस परियोजना के लिए जमीन का अधिग्रहण हो रहा है।

हाजीपुर – सुगौली लाइन परियोजना के लिए पूर्वी एवं पश्चिमी चंपारण, मुजफ्फरपुर एवं वैशाली जिले में जमीन अधिग्रहण का काम हो चुका है। जमीन पर अधियाची विभाग रेलवे का दखल कब्जा भी हो गया है। रेल लाइन क्षेत्र की 10 संरचनाओं को हटा दिया गया है। इस परियोजना के लिए पूर्वी चंपारण जिला में दो चरणों में 718 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। इसमें 227 एकड़ जमीन पर रेलवे का दखल कब्जा हो गया है। मुआवजे की 80 प्रतिशत राशि का भुगतान हो गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.