0Shares

दूध की उपयोगिता को लोगों तक पहुंचाना और इसके बारे में उन्हें जागरूक करने के मकसद से हर साल 1 जून को वर्ल्ड मिल्क डे यानी विश्व दुग्ध दिवस मनाया जाता है। साल 2001 से इसकी शुरुआत की गई थी।

ये तो सभी को पता है कि दूध शरीर के लिए बेहद जरूरी है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व होते हैं। वैसे, दूध एक ऐसी चीज है, जिसे गरीब से लेकर अमीर तक सभी पीते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अंबानी से लेकर अमिताभ बच्चन के घर किस डेयरी का दूध आता होगा और इसकी कीमत क्या होगी? अगर आपको नहीं पता तो इस आर्टिकल में आपको इसकी जानकारी अवश्य मिलेगी।

डेयरी

महाराष्ट्र के पुणे शहर में एक मार्डर्न और हाईटेक डेयरी

महाराष्ट्र के पुणे शहर में एक मार्डर्न और हाईटेक डेयरी है, जिसका नाम ‘भाग्यलक्ष्मी’ है। इस डेयरी का दूध मुंबई के अलावा देश की कई बड़ी हस्तियों के घर भेजा जाता है। भाग्यलक्ष्मी डेयरी के कस्टमर लिस्ट में कई बड़ी हस्तियां शामिल हैं। इनमें अंबानी परिवार से लेकर सचिन तेंदुलकर, अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार और ऋतिक रोशन जैसे मशहूर लोग शामिल हैं

भाग्यलक्ष्मी डेयरी महाराष्ट्र के पुणे जिले में मंचर के पास स्थित है। इस डेयरी में एक लीटर दूध की कीमत करीब 152 रुपए है। यह डेयरी करीब 35 एकड़ एरिया में फैली हुई है, जहां 3000 से ज्यादा गाय हैं। भाग्यलक्ष्मी डेयरी में प्रतिदिन 25 हजार लीटर दूध का उत्पादन होता है। यहां मॉर्डर्न और हाइजीनिक मिल्क प्रोडक्शन सिस्टम के तहत दूध निकाला जाता है। यहां का दूध इस बात की पूरी गारंटी देता है कि वह उच्च क्वालिटी का है।

इस डेयरी फार्म के मालिक देवेंद्र शाह हैं। पहले वो कपड़े का बिजनेस करते थे, लेकिन बाद में उन्होंने अपना डेयरी फॉर्म खोल लिया। शाह ने सबसे पहले 175 कस्टमर्स के साथ ‘प्राइड ऑफ काउ’ लॉन्च किया था। भाग्यलक्ष्मी डेयरी फॉर्म के आज की तारीख में 25 हजार से ज्यादा कस्टमर हैं। इनके कस्टमर देशभर के अलग-अलग शहरों से हैं। यहां का दूध नॉर्थ से साउथ और ईस्ट से वेस्ट चारों दिशाओं के शहरों में सप्लाई होता है।

डेयरी में होलस्टिन फ्रेशियन प्रजाति की 3 हजार से ज्यादा गाय हैं। यह प्रजाति स्विट्जरलैंड की है। इस प्रजाति की एक गाय रोजाना 25-28 लीटर दूध देती है। इन गाय की कीमत 90 हजार से डेढ़ लाख रुपए तक होती है। यहां गायों के लिए हर एक चीज का ध्यान रखा जाता है। यहां तक कि उनके लिए बिछाया गया रबर मैट दिन में 3 बार साफ किया जाता है। यहां गाय सिर्फ RO का पानी पीती हैं। गाय को सोयाबीन के अलावा अल्फा घास, मौसमी सब्जियां और मक्की का चारा दिया जाता है।

फॉर्म में गाय का दूध निकालने से लेकर बॉटलिंग तक, हर काम ऑटोमैटिक होता है। फार्म में आने वाले हर एक शख्स को सबसे पहले अपने पैरों को डिसइन्फेक्ट करना जरूरी होता है। दूध निकालने से पहले हर एक गाय के वजन से लेकर उसके टेम्प्रेचर को मापा जाता है। अगर लगता है कि कोई गाय बीमार है, तो उसे फौरन हॉस्पिटल ले जाया जाता है। दूध पाइप से साइलोज में और इसके बाद पॉश्चुराइज्ड होकर बोतल में पैक किया जाता है।

देवेंद्र शाह की बेटी और कंपनी की मार्केटिंग हेड अक्षाली शाह के मुताबिक, पुणे से मुंबई के लिए हर रोज दूध की सप्लाई फ्रीजिंग डिलिवरी वैन से होती है। पुणे से मुंबई पहुंचने में साढ़े तीन घंटे का समय लगता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.