0Shares

News : बड़े बूढ़ों का कहना हैं की शादी ब्याह कोई बच्चों का खेल नहीं हैं, इसलिए जब भी बच्चों की शादी तय की जाए तो पहले उनकी रजामंदी जरूर जान लेनी चाहिए। वरना बाद में या तो उनकी जिंदगी बर्बाद होगी या आपकी समाज में बदनामी होगी। अब उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के साहपुर गांव की घटना ही ले लीजिए। यहां एक दुल्हन ने फेरों के समय ऐसे नाटक किए कि बारात बेरंग ही लौट गई।

News

News : सब कुछ अच्छा चल रहा था

ऐसे में यह अजीबो गरीब शादी 24 अप्रैल, रविवार की है। साहपुर की रहने वाली नेहा की शादी आंवला के गांव लक्ष्मीपुर निवासी पंकज से तय हुई थी। दोनों की सगाई 20 अप्रैल को धूमधाम से हुई थी। फिर रविवार की शाम तय समय पर बारात भी पहुंच गई। लड़कीवालों ने बारात का अच्छे से स्वागत किया। सबकुछ खुशी-खुशी चल रहा था।

अब जयमाला का समय हुआ। दूल्हे ने तो दुल्हन के गले में वरमाला डाल दी। लेकिन दुल्हन वरमाला पहनाने में नाटक करने लगी। हालांकि दुल्हन की सहेलियों और पिता ने जैसे तैसे उससे वरमाला डलवा दी। बस यहीं से नई नवेली दुल्हन के लक्षण दिखने लगे। वह शादी की हर रस्म पर विरोध करने लगी।

आधी रात हो गई। फेरों का समय आया। यहां दुल्हन फेरे न लेने की जिद पर अड़ गई। परिजनों और बरातियों ने उसे बहुत मनाने की कोशिश की। लेकिन वह टस से मस नहीं हुई। उसने साफ बोल दिया कि ‘मुझे जब दूल्हा ही पसंद नहीं है तो शादी करने का क्या फायदा है?’ यह बात सुन हर कोई हक्का बक्का रह गया।

दुल्हन के पिता ने कई देर बेटी को समझाने बुझाने की कोशिश की। लेकिन जब वह नहीं मानी तो उन्होंने भी हाथ खड़े कर दिए। ऐसे में घराती और बाराती के बीच बहसबाजी होने लगी। कहासुनी बड़ी तो किसी ने 112 पर कॉल कर पुलिस को बुलाया लिया। पुलिस जब मौके पर आई तो लड़की को समझाने लगी। इस तरह सुबह की 10 बज गई। लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं निकला।

Leave a comment

Your email address will not be published.