0Shares

रामदे और भारती : क्या आपने कभी सुना है कि कोई विदेश में अपनी बड़ी नौकरी और विलासिता पूर्ण जिंदगी को छोड़ स्वदेश लौट कर खेतीबाड़ी और पशुपालन में लीन हो जाए। अगर नहीं तो आज का ये आर्टिकल आप जरूर पढ़िए। ये कहानी एक दंपति की है, जिन्होंने विदेश में अपनी विलासितापूर्ण जीवन शैली को छोड़ भारत लौट कर खेती और पशुपालन का अवसर चुना।

रामदे और भारती एक युवा दंपति हैं। इन दोनों ने खेतीबाड़ी के लिए एक बड़े पैकेज की नौकरी छोड़ दी। ये दोनों आज भी गांव के कठिन जीवन में सफलता की कहानियां लिख रहे हैं। रामदे और भारती कई सालों तक लंदन में रहे। पति-पत्नी दोनों ही काम-धंधे से लग्जरी लाइफ जीते थे, लेकिन अब वे लंदन छोड़कर गुजरात के पोरबंदर में अपने गांव लौट आए हैं, जहां दोनों खेती और पशुपालन में लगे हुए हैं।

पोरबंदर जिले के बेरन गांव के रामदे खुटी 2006 में नौकरी के लिए इंग्लैंड गए थे. वहां दो साल काम करने के बाद वे भारत लौट आए और भारती से शादी कर ली। शादी के वक्त भारती राजकोट में एयरपोर्ट मैनेजमेंट और एयर होस्टेस का कोर्स कर रही थीं।

रामदे और भारती

रामदे और भारती : शादी के बाद पढ़ाई पूरी करने के लिए पति के साथ लंदन चली गईं

शादी के बाद भारती अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए 2010 में पति के साथ लंदन चली गईं। लंदन में भारती ने इंटरनेशनल टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट में डिग्री हासिल की, जिसके बाद उन्होंने ब्रिटिश एयरवेज के हीथ्रो एयरपोर्ट पर हेल्थ एंड सेफ्टी कोर्स पूरा किया और वहां काम करना शुरू किया।

दंपति लंदन में एक शानदार जीवन बिता रहे थे। इस बीच, उन्हें एक बेटा हुआ। लेकिन रामदे खुटी को गुजरात में रहने वाले अपने माता-पिता की चिंता थी, क्योंकि यहां उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं था। इसके अलावा, उनका खेत भी खेती के लिए दूसरों को दिया जाता था।

रामदे ने अपने माता-पिता के साथ भारत लौटने का फैसला किया और खेती से कुछ नया करने की सोची। रामदे की पत्नी भारती ने भी उनके फैसले का पूरा समर्थन किया। एक दिन रामदे ने लंदन का विलासी जीवन छोड़ दिया और अपने परिवार के साथ गुजरात लौट आए और एक नया खेत शुरू किया। यहां आकर उन्होंने कृषि के साथ-साथ पशुपालन पर भी ध्यान दिया।

दंपति पारंपरिक खेती के तरीकों को छोड़कर खेती के आधुनिक तरीकों को अपना रहे हैं। उन्होंने नियमित आय के लिए गाय-भैंसों को पालना शुरू कर दिया है, जिसकी जिम्मेदारी भारती ले रही है। भारती को शुरुआत में कई समस्याओं का सामना करना पड़ा, क्योंकि उसने कभी खेती नहीं की थी, लेकिन आज मेहनत के दम पर भारती अब खुद का पशुपालन करती हैं।

खेती करते हुए उच्च शिक्षित दंपति ने नई तकनीक का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। दंपति ने अपने गांव से दैनिक जीवन को वीडियो के रूप में रिकॉर्ड करना और यूट्यूब पर अपलोड करना शुरू कर दिया। उनके चैनल का नाम ‘Live village life with Om & family’ है। ओम और परिवार के साथ उनका ग्रामीण जीवन यूट्यूब चैनल के 10 लाख से अधिक व्यूअर्स हैं। हर वीडियो को लाखों लोग देखते हैं। इससे वे लाखों की कमाई भी कर रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.