0Shares

आधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस को सबसे पहले दिल्ली से लखनऊ के बीच चलाया गया था। नई दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को अक्टूबर 2019 में लॉन्च किया गया था। उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने देश की इस पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्‍सप्रेस को लखनऊ में हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। तेजस एक्सप्रेस वो पहली ट्रेन है, जिसे एक निजी कंपनी के जरिए संचालित किया जाता है।

इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं तेजस एक्सप्रेस से जुड़े तमाम तथ्यों के बारे में।

देश की निजी सेमी-हाई स्पीड ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में जरा सी भी देर होने पर यात्रियों को मुआवजा देने का ऐलान किया गया है। इस ट्रेन के लेट होने पर यात्रियों को 250 रुपये तक का मुआवजा देने की व्यवस्था की गई है।

तेजस एक्सप्रेस

कौन है देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस के मालिक?

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस का मालिक भारतीय रेलवे ही है। जी हां, भारतीय रेलवे ने सिर्फ ट्रेन के टिकट बेचने और कैटरिंग सिस्टम को आईआरसीटीसी को किराए पर दिया है। इसके अलावा बाकी व्यवस्थाओं का जिम्मा भारतीय रेलवे का ही है। इस ट्रेन को भारतीय रेलवे के लोको पायटल और गार्ड चला रहे हैं। ट्रेन भारतीय रेलवे के ट्रैक पर चल रही है। वहीं, अगर बात करें ट्रेन की सुरक्षा की तो यह आरपीएफ के हाथों में है। भारतीय रेलवे और आईआरसीटीसी के बीच सिर्फ मेमोरेंडम और अंडस्टैंडिग पर हस्ताक्षर हुए हैं, जिसके तहत आईआरसीटीसी सिर्फ ठेकेदार के रूप में काम करेंगी।

जानिए तेजस एक्सप्रेस की संगरचनात्मक सुविधाओं के बारे में :

निजी कंपनी के जरिए संचालित होने वाली तेजस एक्सप्रेस की अधिकतम गति 160 किमी है। इसका निर्माण रेल कोच फैक्ट्री, कपूरथला में हुआ है। पहली तेजस लखनऊ और दिल्ली के बीच यातायात करती है। 20 डिब्बों वाली ये देश की पहली ट्रेन हैं, जिसके सभी डिब्बों में स्वचालित दरवाजे हैं। साथ ही हर डिब्बे में चाय व कॉफी की वेंडिंग मशीन लगी है। डिजिटल ज़माने के मुताबिक चलते हुए ट्रेन में प्रत्येक सीट पर एलसीडी स्क्रीन और वाई-फाई की सुविधा मुहैया कराई गई है।

इसके अलावा ट्रेन में प्रसिद्ध शेफ द्वारा तैयार मनपसंद खाना परोसा जाएगा। ट्रेन में पानी की कम खपत वाले बायो-वैक्यूम शौचालय हैं। शौचालय में टचलेस पानी का नल, साबुन डिस्पेंसर और हाथ सुखाने की मशीन लगाई गई है। यह भारतीय रेल की ट्रेन नहीं बल्कि कॉरपोरेट ट्रेन अर्थात IRCTC संचालित पहली ट्रेन होने का गौरव प्राप्त कर चुकी है।

कोरोना के प्रकोप के दौरान बंद कर दिया गया था तेजस एक्सप्रेस ट्रेन का यातायात

साल 2019 के अंत में आई महामारी कोरोना के चलते देश की व्यवस्थाएं ठप पड़ गई थी। दफ्तरों, स्कूल, कॉलेज के साथ यातायात की सुविधाओं पर भी पाबंदी लगा दी गई थी। लोगों को घरों में बंद होकर रहना पड़ा। ऐसे में लखनऊ में कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस को 9 अप्रैल से बंद कर दिया गया था। हालांकि, महामारी के शुरुआती वर्ष में इस ट्रेन का संचालन बंद नहीं किया गया था। तब यात्रियों बेहतर रिस्पॉन्स नहीं मिला था, जिसके कारण इसको बंद कर दिया गया था। तब यह ट्रेन 17 अक्टूबर 2019 से 1 नवंबर के बीच चलाई गई थी। आगे चलकर IRCTC ने अपने ट्विटर हैंडल से यह जानकारी दी कि 14 फरवरी 2021 से तेजस लखनऊ-नई दिल्ली और अहमदाबाद-मुंबई रेलमार्गों पर फिर से चलाई जाएगी।

उधर, 2021 के मध्य में कोरोना की दूसरी लहर के चलते लखनऊ से नई दिल्ली के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस को 9 अप्रैल से फिर बंद करने का फैसला लिया गया। ये ट्रेन हफ्ते में 4 दिन शुक्रवार, शनिवार, रविवार और सोमवार को चलाई जा रही थी।

इससे पहले अहमदाबाद-मुंबई तेजस एक्सप्रेस को 2 अप्रैल से ही बंद कर दिया गया था। इसके बाद इन ट्रेनों को 7 अगस्त 2021 में पुनः चालू किया गया।

तेजस एक्सप्रेस

कितने रूट्स पर चलती है तेजस एक्सप्रेस?

यूं तो देश में तेजस एक्सप्रेस ट्रेन की शुरूआत 24 मई 2017 को हुई थी। उस दिन मुंबई छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से गोवा करमाली के बीच देश की पहली तेजस एक्सप्रेस चली थी। लेकिन देश के पहले प्राइवेट ट्रेन के रूप में तेजस एक्सप्रेस की शुरूआत 4 अक्टूबर 2019 को हुई थी। इसके बाद जनवरी 2020 में अहमदाबाद से मुंबई के बीच भी प्राइवेट ट्रेन के रूप में तेजस एक्सप्रेस का परिचालन शुरू हुआ था। मौजूदा समय में तेजस एक्सप्रेस चार रूट्स पर चलती है। छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस-कर्माली और चेन्नई एगमोर-मदुराई जंक्शन तेजस एक्सप्रेस, लखनऊ-नई दिल्ली और मुंबई सेंट्रल-अहमदाबाद के बीच इन प्राइवेट ट्रेनों का संचालन होता है।

क्या है तेजस एक्सप्रेस का किराया और समय :

सेमी-हाई स्पीड ट्रेन तेजस एक्सप्रेस देश के कई प्रमुख शहरों के बीच दौड़ती है। इसलिए ट्रेन का किराया ट्रेन के रूट पर निर्भर करता है। ट्रेन में सीटों के दो विकल्प रहते है – चेयर कार (CC) और एक्जीक्यूटिव क्लास (EC)।

मुंबई CSMT- करमाली तेजस एक्सप्रेस के लिए चेयर कार (CC) का किराया – 1,525 रु है और एक्जीक्यूटिव क्लास (EC) का किराया – 2,980 रुपये। अलग अलग रूटों के लिए ट्रेन के किराए में बदलाव हो सकता है। ट्रेन में निशुल्क स्नैक्स, पेय पदार्थ, कॉल बटन, आदि जैसी सुविधाओं मिलती है।

तेजस एक्सप्रेस की टिकट बुकिंग


देश के अलग-अलग राज्यों को जाने वाली इन तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए टिकट आईआरसीटीसी (IRCTC) की ऑफिशियल वेबसाइट व ऐप्लिकेशन के माध्यम से ऑनलाइन टिकट बुकिंग कर सकते है। वहीं पर टिकट का ऑनलाइन पेमेंट भी कर सकते है। इसके अलावा रेलवे के सभी कंप्यूटराइज्ड रिजर्वेशन काउंटर से भी आप इन ट्रेनों के टिकट की बुकिंग कर सकते है।

Leave a comment

Your email address will not be published.