0Shares

Tourist Trains : आईआरसीटीसी द्वारा संचालित प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराने वाली देश की पहली भारत गौरव टूरिस्ट ट्रेन बिहार से होकर भी गुजरेगी।

ट्रेन थर्ड एसी होगी, जो देश के प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराते हुए नेपाल तक जाएगी। यह ट्रेन भगवान राम से जुड़े प्रमुख तीर्थ स्थलों के दर्शन कराएगी, इसलिए इस ट्रेन का नाम श्री रामायण यात्रा रखा गया है।

Tourist Trains

Tourist Trains : नई योजना भारत गौरव शुरू

रेलवे मंत्रालय ने ट्रेनों को किराए पर देने के लिए नई योजना भारत गौरव शुरू की है। इसके तहत चलाई जाने वाली पहली ट्रेन भारत और नेपाल को आपस में जोड़ेगी। यह ट्रेन नेपाल के जनकपुर तक जाएगी, जहां रामजानकी मंदिर स्थित है।

रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार ट्रेन पूरी यात्रा में 8000 किमी का सफर तय करेगी। यह ट्रेन देश के 8 राज्‍यों का सफर करेगी, जिसमें उत्‍तर प्रदेश, बिहार, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश शामिल हैं।

ट्रेन 21 जून को सफदरजंग रेलवे स्‍टेशन दिल्‍ली से रवाना होगी। पूरी यात्रा 18 दिन की होगी। पूरी ट्रेन थर्ड एसी होगी। करीब 600 यात्री एक साथ सफर कर सकेंगे। ट्रेन में पैंट्री कार होगी, ट्रेन सीसीटीवी कैमरे से लैस होगी। सुरक्षा के लिए गार्ड भी मौजूद रहेंगे।

ट्रेन भगवान श्रीराम से संबंधित 12 प्रमुख शहरों से होकर गुजरेगी। यात्री इन धार्मिक स्‍थानों के दर्शन कर सकेंगे। इनमें अयोध्‍या, बक्‍सर, जनकपुर, सीतामढ़ी, काशी, प्रयाग, चित्रकूट, नासिक, हम्‍पी, रामेश्‍वरम, कांचीपुरम और भद्रांचल शामिल हैं।

बता देंकि अयोध्‍या में राम जन्‍मभूमि मंदिर, हनुमान गढ़ी, सरयू घाट, नंदीग्राम, भरत हनुमान मंदिर और भरत कुंड स्थित हैं। वहीं, नेपाल के जनकपुर में रामजानकी मंदिर, सीतामढ़ी में जानकी मंदिर और पुराना धाम, बक्‍सर में राम रेखा घाट, रामेश्‍वरनाथ मंदिर, वाराणसी में तुलसी मानस मंदिर, संकट मोचन मंदिर, विश्‍वनाथ मंदिर और गंगा आरती, प्रयागराज में सीता समाहित स्‍थल, सीतामढ़ी में भारद्वाज आश्रम, गंगा-यमुना संगम और हनुमान मंदिर हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.