Indian Railway trains 2022 news offers updates
0Shares

रेलवे के यात्रियों के लिए अच्छी खबर है. अब मुंबई और दिल्ली का सफर कम से कम एक घंटे पहले पूरा होगा।

भारतीय रेलवे ने 23 जोड़ी ट्रेनों को 160 किमी प्रति घंटे तक चलाने का फैसला किया है. इसके लिए रेलवे ने ट्रेनों को नॉमिनेट भी कर दिया है। ट्रेनों की Speed बढने से सबसे ज्यादा दिल्ली-मुबंई के बीच यात्रा करने वाले यात्रियों को होगा. 23 में से 12 जोड़ी ट्रेनें आते-जाते वक्त मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से होकर गुजरेंगी। राजधानी श्रेणी की सभी 5, शताब्दी की 3, संपर्कक्रांति के अलावा पंजाबमेल, केरल और एक दुरंतो ट्रेनें ऐसी हैं जो भोपाल में हाल्ट लेकर जाती हैं।

पंजाब मेल जैसी ट्रेन से ही दिल्ली से मुंबई के बीच के सफर के दौरान यात्रियों का डेढ़ घंटे तक का समय बचने लगेगा. अलग-अलग डेस्टिनेशन के लिए चलने वाली इन ट्रेन का ओवर ऑल एक से डेढ़ घंटे का समय सितंबर के दूसरे हफ्ते से बचना शुरू हो जाएगा. रेल मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि अगस्त में इनका औपचारिक नोटिफिकेशन कर बचने वाले समय की घोषणा कर दी जाएगी. वहीं हाल ही में रेल मंत्रालय ने स्पीड फोर्स यूनिट का गठन किया है. इसमें ट्रेनों के आने-जाने वाले रूट के 5 से ज्यादा मंडलों के अधिकारी शामिल किए गए हैं. यह अधिकारी ट्रेनों की स्पीड को 130 से 160 तक पहुंचने के दौरान लगातार निगरानी रखेंगे और जिन सेक्शनों में लगातार एक ही स्पीड में ट्रेनों को चलाने में समस्या आएगी, उनके संबंध में सुझाव भी देंगे।

Indian Railway trains 2022 news offers updates

रेलवे का पूरा फोकस ट्रेनों को हाई स्पीड पर चलाकर यात्रा समय में कमी लाना है। इसी के तहत लगातार वर्किंग चल रही है। यात्रा समय की बचत होने के बाद रेल मंत्रालय की योजना है कि डिमांड वाले रूट्स पर अभी चल रहीं ट्रेनों के समानांतर यानी आसपास के समय पर कुछ ट्रेंस चला दी जाएं. इससे उन रूट्स की वेटिंग खत्म हो सकेगी, जहां ऑफ सीजन में भी यात्रियों को बर्थ नहीं मिल पाती.

इसमें सबसे खास बात यह भी है कि, रेलवे का इस साल के अंत तक ट्रेनों की स्पीड को 180 किमी प्रतिघंटे करने का लक्ष्य है. इसके तहत ही रेलवे का ट्रैक, ट्रेन और हाई स्पीड इंजनों के जरिए ट्रेनों को स्पीड से चलाने पर वर्किंग शुरू हो गया है।

Hrichitwi Hrichi Sonali

Passionate Journalist

Leave a comment

Your email address will not be published.