0Shares

Cricket World : इंटरनेशनल क्रिकेट में कई कप्तानों ने अपने कार्यकाल में टीम को वर्ल्ड चैम्पियन बनाया है। पिछले कुछ दशकों में हमने ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग, भारत के एमएस धोनी और पाकिस्तान के ‘इमरान खान’ जैसे कई सफल कप्तानों को देखा है। रिकी पोंटिंग इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में ऑस्ट्रेलिया के सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं।

वहीं, कैप्टन कूल एमएस धोनी ने वनडे और टी-20 इंटरनेशनल वर्ल्ड कप में भारत को चैम्पियन बनाया है। इस बीच कुछ कप्तान ऐसे भी रहे, जो लंबे समय तक अपनी टीम की कप्तानी करने के बाद भी इंटरनेशनल क्रिकेट में उतने सफल नहीं हो पाए। आज के इस आर्टिकल में हम आपको इंटरनेशनल क्रिकेट के उन तीन कप्तानों के बारे में बताने वाले हैं, जिनकी किस्मत ने मैदान पर उनका बिलकुल भी साथ नहीं दिया।

Cricket World

Also Read : Cricket World : क्रिकेट जगत के ये खिलाड़ी, जिन्होंने अपने पूरे करियर में नहीं डाली एक भी नो बॉल

Cricket World : इस प्रकार है वो तीन कप्तान

1. महेला जयवर्धने :

श्रीलंका के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने को साल 2006 में आईसीसी ने बेस्ट इंटरनेशनल कैप्टन ऑफ़ द ईयर के सम्मान से नवाजा था। जयवर्धने की कप्तानी में श्रीलंका की टीम आईसीसी विश्व कप 2007 में के फाइनल में पहुंच गई, लेकिन रिकी पोंटिंग की अगुवाई वाली ऑस्ट्रेलिया की टीम से हार गई। इसके बाद, श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने टीम के नेतृत्व में फेरबदल करने का फैसला लिया। विकेटकीपर-बल्लेबाज कुमार संगकारा को टीम की कप्तानी सौंपी गई। वहीं, साल 2011 वर्ल्ड कप में उन्होंने वनडे फॉर्मेट में श्रीलंका के उप-कप्तानी पद से इस्तीफा दिया।

2. इंजमाम उल हक :

इंजमाम उल हक पाकिस्तान के इकलौते कप्तान हैं, जिनके नेतृत्व में साल 2007 के टी-20 विश्व कप में पाकिस्तान को हार का मुंह देखना पड़ा। वह अपने सबसे बड़े समर्थक कोच बॉब वूल्मर की रहस्यमयी मौत के बाद से ही असुरक्षित स्थिति में फंसे हुए थे। भारत-पाक फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान की हार के बाद पीसीबी ने उनके हाथों से कप्तानी छीन ली। उन्हें टीम की कप्तानी के लिए और मौके नहीं दिए गए। पीसीबी ने इंजमाम उल हक़ के बाद टीम के ही अनुभवी खिलाड़ी शाहिद अफरीदी को पाकिस्तान का अगला कप्तान नियुक्त किया।

3. केन विलियमसन :

साल 2019 क्रिकेट विश्व कप में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन की एक गलती कोई नहीं भूल सकता है। केन विलियमसन कीवी टीम की अगुवाई कर रहे थे और यह दूसरी बार था जब विश्व कप का फाइनल मुकाबला न्यूजीलैंड खेल रही थी।सुपर ओवर के टाई के बाद बाउंड्री के आधार पर परिणाम घोषित किया गया और इंग्लैंड ने ट्राफी जीत ली, क्योंकि उनके बल्लेबाजों ने अधिक बाउंड्री लगाई थी। वहीं, साल 2021 के ICC T20 विश्व कप में भी ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड को करारी शिकस्त दी। ऐसे में, केन विलियमसन की बदकिस्मती के कारण न्यूजीलैंड ने दोनों मौके गंवा दिए।

Leave a comment

Your email address will not be published.