0Shares

Suraj Randiv : श्रीलंका की क्रिकेट टीम इन दिनों बुरे आर्थिक हालातों को खेल रही है। टीम के कई खिलाड़ी पिछले कुछ समय में क्रिकेट छोड़कर दूसरे कामों में लग गए है। इनमे एक खिलाड़ी ऐसा भी है जो अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए ड्राइवर तक बन गया है।

यह खिलाड़ी वर्ल्ड कप में भारतीय पूर्व क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ और धोनी के साथ आईपीएल में खेल चुका है। अब ये खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया में रहकर बस चलाने का काम करते है।

आखिर कौन हैं ये श्रीलंकाई क्रिकेटर?

श्रीलंका टीम में रहकर धोनी के साथ खेलने वाले ये खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि सूरज रणदीव है। साल 2011 के भारत और श्रीलंका के बीच खेले गए वर्ल्ड कप मैच में श्रीलंका की टीम में सूरज रणदीव भी मौजूद थे। इसके अलावा सूरज धोनी की कप्तानी वाली आईपीएल टीम सीएसके के लिए भी खेल चुके हैं।

साल 2012 में सीएसके के लिए खेलते हुए उन्होंने 8 मैचों में 6 विकेट लिए थे। सूरज रणदीव का क्रिकेट करियर चाहे जैसा रहा हो, लेकिन अब we क्रिकेट से दूरियां बनाकर ऑस्ट्रेलिया में बस चलाने का काम करते है। इस काम के लिए we साल 2019 में ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हो गए थे।

Suraj Randiv

Also Read : महिला क्रिकेटरों के सामने आने वाले संघर्षों पर पूर्व कप्तान मिताली राज ने रखी अपनी राय

Suraj Randiv : बस ड्राइविंग के साथ साथ लोकल क्रिकेट में भी खेलते है

ऑस्ट्रेलिया में सूरज रणदीव बस ड्राइविंग के साथ साथ लोकल क्रिकेट में भी खेलते है। उन्होंने श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट मैचों में 46 विकेट अपने नाम किए। वही 31 वनडे में 39 विकेट और 7 टी20 मुकाबलों में 7 विकेट हासिल कर चुके है। भारतीय क्रिकेट के फैंस सूरज रणदीव को उस नो बॉल की वजह से जानते हैं, जिसने 99 रन पर बैटिंग कर रहे सहवाग को शतक से महरूम कर दिया था। सूरज रणदीव उस समय चर्चा में आए थे, जब उन्हें जानबूझकर नो बॉल डालते पकड़ा गया था।

सूरज ने वीरेंद्र सहवाग का शतक पूरा न होने देने के लिए दिलशान के कहने पर नो बॉल डाली। तब भारत को जीत के लिए 1 रन की जरूरत थी। वही सहवाग 99 रनो पर धमाकेदार बल्लेबाजी करते नजर आ रहे थे, लेकिन अगर इस दौरान सहवाग मात्र 1 रन और बना पाते, तो उनका शतक पूरा हो जाता। ऐसे में दिलशान ने साजिश रचते हुए रणदीव को जानबूझकर नो बॉल फेंकने की सलाह दी और उन्होंने वही किया।

हालांकि, सहवाग ने नो बाल पर भी छक्का जड़ दिया था, लेकिन नो बॉल होने के कारण अंपायरों ने भारत को विजयी घोषित कर दिया और उनका छक्का रनों में नहीं जोड़ा गया। सहवाग 99 रन पर नॉटआउट रहे और फिर श्रीलंकाई क्रिकेट ने सूरज रणदीव को एक मैच के लिए टीम से बाहर कर दिया था। वही, दिलशान के ऊपर जुर्माना लगाया था। अगर सूरज के मैचों की बात करे, तो इन्होंने 12 टेस्ट में 46 विकेट और 31 वनडे मैचों में 36 विकेट अपने नाम किए है, लेकिन फिर बाद में सहवाग के साथ वो हादसा करने के बाद से सूरज पूरी दुनिया में बदनाम होते चले गए।

हालांकि, इतना कुछ होने के बाद भी सूरज को श्रीलंका की 2011 वर्ल्ड कप की टीम में शामिल कर लिया गया था, लेकिन एक खिलाड़ी के तौर पर वे ज्यादा सफल खिलाड़ी नहीं बन पाए और आज ऑस्ट्रेलिया में बस चलाने का काम करते है। इनके अलावा दो और खिलाड़ी श्रीलंका और जिंबाब्‍वे के पूर्व क्रिकेट चिंतका नमस्‍ते और वाडिंगटन वायेंगा ऑस्‍ट्रेलिया में जा बसे हैं और मेलबर्न में फ्रेंच-आधारित कंपनी ट्रांसदेव में बस ड्राइवर का काम कर रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.